नया व्यवसाय शुरू करें और रोजगार पायें, लघु उद्योग सूची, लघु उद्योग के प्रकार, लघु उद्योग की जानकारी, कम लागत के उद्योग, कम पूंजी के व्यापार

%e0%a4%a8%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%b5%e0%a5%8d%e0%a4%af%e0%a4%b5%e0%a4%b8%e0%a4%be%e0%a4%af-%e0%a4%b6%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a5%82-%e0%a4%95%e0%a4%b0%e0%a5%87%e0%a4%82-%e0%a4%94%e0%a4%b0-%e0%a4%b0

सपने देखना और उनको पाने का प्रयास करना है तो तय मानिए आपके पास नए विचारों का खजाना होना ही चाहिए। अगर आप कोई बिजनेस शुरू करना चाहते हैं और उसे आगे बढ़ना चाहते है तो नए-नए आइडियाज को आजमाना होगा। बिजनेस शुरू करने के लिए बने बनाए आइडिया के बजाय खुद के कच्चे-पक्के आइडिया पर अगर आप विचार करते हैं तो शायद भीड़ से अलग, कुछ खास कर गुजरने की संभावना अधिक हो सकती है।

शुरू किया गया नया उद्यम आपका अपना विचार है, आपका अपना कारोबार है। इसलिए इस कारोबार के किसी भी पहलू से जुड़ने के लिए आप स्वतंत्र हैं।

लघु उद्योग (छोटे पैमाने की औद्योगिक इकाइयाँ) वे होती है जो मध्यम स्तर के विनियोग की सहायता से उत्पादन प्रारम्भ करती हैं। इन इकाइयों मे श्रम शक्ति की मात्रा भी कम होती है और सापेक्षिक रूप से वस्तुओं एवं सेवाओं का कम मात्रा में उत्पादान किया जाता है। ये बड़े पैमाने के उद्योगो से पूंजी की मात्रा, रोजगार, उत्पादन एवं प्रबन्ध, आगतों एवं निर्गतो के प्रवाह इत्यादि की दृष्टि से भिन्न प्रकार की होती है। ये कुटीर उद्योगोंसे भी इन आधारों पर भिन्न होती हैं- उत्पादन में यंत्रीकरण की मात्रा, मजदूरी पर लगाये गये श्रमिकों एवं परिवारिक श्रमिकों के अनुपात, बाजार का भौगोलिक आकार, विनियोजित पूंजी इत्यादि।

सूक्ष्म, लघु एंव मध्यम उद्योग देश की सम्पूर्ण औद्योगिक अर्थव्यस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करते है। यह अनुमान किया जाता है कि मूल्य के अर्थ में यह क्षेत्र निमार्ण की दृष्टि से 39% एवं भारत के कुल निर्यात के 33% के लिए जिम्मेदार है। इस क्षेत्र का लाभ यह है कि इसकी रोजगार क्षमता न्यूनतम पूंजी लागत पर है।

हममें से अधिकांश ने-कभी न कभी- अपना व्यवसाय आरंभ करने का सपना देखा हॆ। ऒर हममें से कुछ ने यह भी सोचा होगा कि क्या उद्यमिता उनके लिये उपयुक्त रहेगी। प्रत्येक व्यक्ति की अभिलाषा होती है कि वह जो भी कार्य करे वह उसकी रूचि के अनुरूप हो तथा उसमें उसे सफलता मिले। बहुत ही कठिन है यह जानना कि कौन सा कार्य हमारे अनूकुल होगा। जिसमे हमें सफलता मिले। प्रश्नो की एक श्रृंखला आपको यह निर्णय लेने में सहायता करेगी कि आपके व्यक्तिगत उद्देश्य क्या हॆं तथा क्या उद्यमिता आपके लिये उपयुक्त हॆ।

एक बार जब व्यवसायी यह सोच लें कि उन्हें कौन सा व्यवसाय करना है, तो इसके बाद यह बहुत जरूरी है कि उसके लिए उचित ढ़ग से व्यवसायिक योजना भी की जाए। एक सुव्यवस्थित प्रलेखित व्यवसाय योजना उस कंपनी का उचित मूल्यांकन करने में मदद करती है जिसे आप शुरु करने जा रहे हैं।

करियर में संघर्ष चलते रहते हैं। नौकरी मिलना या जाना आज आम बात है। ऐसे में अपना व्यवसाय शुरू करने की दिशा में लोग अक्सर ध्यान देते हैं। कुछ बुनियादी उपाय हैं, जिन्हें अपना कर व्यवसाय की शुरुआत हो सकती है।

अगर आप किसी भी बिजनेस की शुरुआत कर रहे हैं तो सबसे पहले उसके बारे में अच्छे से जान लें। उसकी हर तरह की जानकारी जुटा लें ताकि आपको आगे किसी भी तरह का नुकसान ना हो।

प्रत्येक व्यक्ति में अलग-अलग कार्य करने की क्षमता होती है। आपके विचार की सफलता के लिए उत्साह अत्यंत महत्वपूर्ण है। आखिर अगर आप अपना खुद का कारोबार शुरू करने या अपने विचार को आगे बढ़ाने की बात सोचकर उत्साहित नहीं होते तो फिर यह आपके मौजूदा काम से भला किस तरह अलग होगा। आपके उत्साह से ही दूसरे लोग आपके विचार / कारोबार का नोटिस लेंगे।

केवल लाभदायक व्यतवसाय ही जीवित रह सकता है । यदि आपको किसी गतिविधि में खास रुचि है और उस गतिविधि से संबंधित आपके पास कुछ योजनाऍं हैं, तो यह आवश्यधक हो जाता है कि उन योजनाओं की व्यावसायिक संभावनाओं का आकलन किया जाए । अपने विचारों को स्थायी व्ययवसाय में बदलने के लिए और उसकी जीवंतता बनाए रखने के लिए कुछ प्रश्नों  का उत्तर अपेक्षित हैं जैसेः- कि क्या  आपके उत्पाद और सेवाओं की पर्याप्त  मांग है? क्या आप एक आवर्ती आय अर्जित करेंगे ? और क्या  बड़े पैमाने की किफायतें मौजूद हैं? क्या  आपके विचारों को निरंतर व्यरवसाय में बदलने की सक्षमता है?

See more

http://goo.gl/b6p7bl

http://goo.gl/2KrF8G

http://goo.gl/3857gN

http://goo.gl/gUfXbM     

http://goo.gl/Jf0264    

 

Contact us:

Niir Project Consultancy Services

106-E, Kamla Nagar, Near Spark Mall,

New Delhi-110007, India.

Email: npcs.ei@gmail.com , info@entrepreneurindia.co

Tel: +91-11-23843955, 23845654, 23845886, 8800733955

Mobile: +91-9811043595

Fax: +91-11-23841561

Website :

http://www.niir.org

http://www.entrepreneurindia.co

Tags

स्वरोजगार बेहतर भविष्य का नया विकल्प, अमीर बनने के तरीके, अवसर को तलाशें, आखिर गृह और कुटीर उद्योग कैसे विकसित हो, आधुनिक कुटीर एवं गृह उद्योग, आप नया करोबार आरंभ करने पर विचार कर रहे हैं, उद्योग से सम्बंधित जरुरी जानकारी, औद्योगिक नीति, कम पूंजी के व्यापार, कम पैसे के शुरू करें नए जमाने के ये हिट कारोबार, कम लागत के उद्योग, कम लागत वाले व्यवसाय, कम लागत वाले व्यवसाय व्यापार, कारोबार बढाने के उपाय, कारोबार योजना चुनें, किस वस्तु का व्यापार करें किससे होगा लाभ, कुटीर उद्योग, कुटीर और लघु उद्यमों योजनाएं, कैसे उदयोग लगाये जाये, कौन सा व्यापार करे, कौन सा व्यापार रहेगा आपके लिए फायदेमंद, क्या आप अपना कोई नया व्यवसाय, व्यापारकारोबार, स्वरोजगार, छोटा बिजनेस, उद्योग, शुरु करना चाहते हैं?, क्या आपको आर्थिक स्वतंत्रता चाहिए, क्या व्यापार करे, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग, खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों हेतु स्थापना, छोटा कारोबार शुरु करें, छोटे पैमाने की औद्योगिक इकाइयाँ, छोटे मगर बड़ी संभावना वाले नए कारोबार, छोटे व्यापार, नया कारोबार, नया बिजनेस आइडिया, नया व्यवसाय शुरू करें और रोजगार पायें, नया व्यापार, परियोजना प्रोफाइल, भारत के लघु उद्योग, भारत में नया कारोबार शुरू करना, रोजगार के अवसर, लघु उद्योग, लघु उद्योग की जानकारी, लघु उद्योग के नाम, लघु उद्योग के बारे, लघु उद्योग माहिती व मार्गदर्शन, लघु उद्योग यादी, लघु उद्योग शुरू करने सम्बन्धी उपयोगी, लघु उद्योग सूची, लघु उद्योगों का वर्गीकरण, लघु उद्योगों की आवश्यकता, लघु उद्योगों के उद्देश्य, लघु उद्योगों के प्रकार, लघु उधोग की जानकारी, लघु एवं कुटीर उद्योग, लघु कुटीर व घरेलू उद्योग परियोजनाएं, व्यवसाय लिस्ट, व्यापार करने संबंधी, व्यापार के प्रकार, सुक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों, स्टार्ट अप इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया स्टैंड अप इंडिया, स्टार्टअप क्या है, स्टार्टअप योजना, स्वरोजगार, स्वरोजगार के अवसर, स्वरोज़गार परियोजनाएं, लघु उद्योगों की सम्पूर्ण जानकारी की किताब, सफल उद्योगों की गाइड, क्या आप खुद का बिज़नस करना चाहते हैं, लघु उद्योगों की विस्तृत जानकारी ,

Contact Form

2 thoughts on “नया व्यवसाय शुरू करें और रोजगार पायें, लघु उद्योग सूची, लघु उद्योग के प्रकार, लघु उद्योग की जानकारी, कम लागत के उद्योग, कम पूंजी के व्यापार

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s